India Travel Tales

घुमक्कड़ी दिल से

भूली भटियारी महल – आत्मा कहीं नहीं मिली !

भूली भटियारी महल – आत्मा कहीं नहीं मिली !

पिछले 15 दिनों से दिल्ली में हूं।  पच्चीस – तीस वर्ष पहले तक दिल्ली की डी.टी.सी. बस पकड़ कर कहीं आने – जाने की सोच कर ही बुखार चढ़ने लगता था, मैट्रो रेल के आगमन ने अब मेरे जैसे सीनियर…

घुमक्कड़ी हमें बेहतर इंसान बनाती है!

ताज की नगरी आगरा के निवासी रितेश गुप्ता एक बेहतरीन घुमक्कड़ तो हैं ही, एक बहुत सुलझे हुए, मृदुभाषी और  सहयोगपूर्ण इंसान भी हैं जो  वर्ष 2015 से  ’घुमक्कड़ी दिल से’ नामक फेसबुक ग्रुप को पूर्णतः समर्पित हैं।  हमने उनसे…

घुमक्कड़ों का कुंभ – ’ओरछा मिलन’

घुमक्कड़ों का कुंभ – ’ओरछा मिलन’

1. घुमक्कड़ों का कुंभ – ’ओरछा मिलन’ (सहारनपुर से झांसी तक यात्रा) 2. ओरछा में पहला दिन – 3. ओरछा में दूसरा दिन और वापसी ’घुमक्कड़ी दिल से’ ग्रुप और मैं वर्ष 2011 के दौरान मैने पहला यात्रा संस्मरण ’ऐसे…