India Travel Tales

नैनीताल – नैनी झील में बोटिंग

  1. यात्रा सहारनपुर से नैनीताल की 
  2. काठगोदाम से भीमताल होते हुए नैनीताल
  3. नैनीताल – एक अलसाई हुई सुबह 
  4. नैनी झील में बोटिंग, चिड़ियाघर, तल्लीताल, चांदनी चौक

पिछले पोस्ट  – “नैनीताल की अलसाई एक सुबह” में  मैं आपको बता रहा था कि  नैनीताल में अल सुबह घूमते घूमते मल्लीताल में वर्षा शुरु हो गयी तो तो वर्षा की बूंदों से कैमरे की रक्षा करने के लिये अपनी शर्ट में छिपा कर मैं तेज कदमों से होटल की ओर चल पड़ा!   रास्ते में एक बाइक पर लिफ्ट मिल गयी तो होटल तक दो मिनट में ही आ पहुंचा।

अब तक वर्षा भी तेज हो चुकी थी।  होटल से बाहर झांकने पर कुछ भी नज़र नहीं आ रहा था। ऐसे में इस समय का सदुपयोग कैमरे को पुनः चार्ज करने और मैमोरी कार्ड को खाली करने में किया जा सकता था, सो वही किया।  जब चार्जिंग चल रही थी तो रूम सर्विस वालों से पानी की एक बाल्टी मंगा कर स्नान ध्यान भी कर डाला।  बारह बजते – बजते न केवल  वर्षा रुक गयी बल्कि धूप भी निकल आई। वल्लाह, क्या खूबसूरत लग रहा था नैनीताल उस खिली – खिली सी धूप में !   यदि थोड़ा बहुत वायु प्रदूषण या गन्दगी मेरे नैनीताल पहुंचने से पहले रही भी होगी तो वह ऐसे ही साफ हो चुकी थी जैसे स्वास्थ्य मंत्री के निरीक्षण से पहले ही अस्पताल की सब व्यवस्था चाक चौबन्द कर दी जाती है !  ऐसे में कमरे में रुकना तो महापाप होता अतः फुर्ती से कैमरा और पर्स संभाला और कमरे को ताला लगा कर गर्दन घुमाई तो खूब सारे बच्चे  बगल के कमरों से घूमने की तैयारी में बाहर निकलते हुए दिखाई दिये। उनका परिचय लिया, एक फोटो उन सबकी खींची और होटल से नीचे उतर आया।  होटल के ठीक सामने अप और डाउन सड़कों के बीच में चल रहा पैदल पथ और शानदार पार्क आवाज़ देकर बुला रहे थे। सच, उस पार्क को देख कर नैनीताल वालों के भाग्य से बड़ी ईर्ष्या हुई।  हमारे सहारनपुर में तो नगर निगम को नरक निगम कहना ही ज्यादा उचित है। सहारनपुर की जिम्मेदारी संभाले हुए अधिकांश अधिकारी और कर्मचारी ऐसे हैं  जिनको गन्दगी से खासा लगाव है और जिन्होंने पूरे सहारनपुर को एक विशाल कूड़ाघर का स्वरूप देने में कोई कसर नहीं रख छोड़ी है।

इस पार्क में घूमते हुए बीच – बीच में नाव वाले भी आवाज़ देते रहे जो नैनी झील में सैर कराते हैं।  अकेले झील में बोटिंग करने में मेरी कोई दिलचस्पी नहीं थी पर ये सोच कर कि देखें, झील में से नैनीताल कैसा नज़र आता है, मैने एक नाव में बैठ कर एक चक्कर लगाना स्वीकार कर लिया। आप भी देख लीजिये कि मुझे क्या – क्या नज़र आया था –

नैनीताल में होटल शीला में ये बच्चे मिल गये जो मेरी ही तरह घूमने फिरने के लिये आये हुए थे।

नैनीताल में होटल शीला में ये बच्चे मिल गये जो मेरी ही तरह घूमने फिरने के लिये आये हुए थे।

मुझे आशंका थी कि कहीं इन लोगों के बैठने की वज़ह से ही तो इस बैंच के पाये धरती के अन्दर नहीं चले गये हैं।

मुझे आशंका थी कि कहीं इन लोगों के बैठने की वज़ह से ही तो इस बैंच के पाये धरती के अन्दर नहीं चले गये हैं।

नैनीताल में नैनी झील की नाव एक निश्चित अन्तराल के बाद थोड़ी बहुत मरम्मत मांगती हैं ! ऐसी ही एक नाव में वाटर प्रूफ सॉल्यूशन लगाता हुआ नाव वाला !

नैनीताल में नैनी झील की नाव एक निश्चित अन्तराल के बाद थोड़ी बहुत मरम्मत मांगती हैं ! ऐसी ही एक नाव में वाटर प्रूफ सॉल्यूशन लगाता हुआ नाव वाला !

कुछ नाव लकड़ी की हैं तो कुछ फाइबर ग्लास की ! फाइबर ग्लास की इन पैडल बोट को खुद ही दो लोग पैडल मार - मार कर चलाते हैं। कुछ नाव में चार व्यक्तियों के लिये पैडल मारने की व्यवस्था होती है।

कुछ नाव लकड़ी की हैं तो कुछ फाइबर ग्लास की ! फाइबर ग्लास की इन पैडल बोट को खुद ही दो लोग पैडल मार – मार कर चलाते हैं। कुछ नाव में चार व्यक्तियों के लिये पैडल मारने की व्यवस्था होती है।

नैनी झील में लकड़ी वाली परम्परागत नाव जिसे मैने सबसे पहले आरज़ू फिल्म में देखा था। शायद इस पर छतरी भी तान दी जाती होगी !

नैनी झील में लकड़ी वाली परम्परागत नाव जिसे मैने सबसे पहले आरज़ू फिल्म में देखा था। शायद इस पर छतरी भी तान दी जाती होगी !

नैनीताल - पर्यटकों की प्रतीक्षा में नाव खड़ी हैं !

नैनीताल – पर्यटकों की प्रतीक्षा में नाव खड़ी हैं !

नैनीताल - नैनी झील का ये मेरा नाव वाला जिसने मुझे बोटिंग के लिये पटाया था !

नैनीताल – नैनी झील का ये मेरा नाव वाला जिसने मुझे बोटिंग के लिये पटाया था !

नाव वाले ने मेरा कैमरा लेकर मेरी ही फोटो खींच डाली !

नाव वाले ने मेरा कैमरा लेकर मेरी ही फोटो खींच डाली !

नैनीताल में नैनी झील की सफाई एक हर रोज़ चलने वाली प्रक्रिया है।

नैनीताल में नैनी झील की सफाई एक हर रोज़ चलने वाली प्रक्रिया है।

होटल के कमरे से झील के उस पार जो लाल रंग का भवन दिखाई देरहा था, वह झील में बोटिंग करते हुए समझ आया कि मंदिर है।

होटल के कमरे से झील के उस पार जो लाल रंग का भवन दिखाई देरहा था, वह झील में बोटिंग करते हुए समझ आया कि मंदिर है।

नैनीताल - माल रोड - ये बच्चे चिड़ियाघर जाने के लिये वाहन की प्रतीक्षा कर रहे हैं। इनको देख कर मुझे भी चिड़ियाघर देखने जाने की तमन्ना हुई ।

नैनीताल – माल रोड – ये बच्चे चिड़ियाघर जाने के लिये वाहन की प्रतीक्षा कर रहे हैं। इनको देख कर मुझे भी चिड़ियाघर देखने जाने की तमन्ना हुई ।

नैनी झील में रोमांटिंक सैर

नैनी झील में रोमांटिंक सैर

1.4 किमी लम्बी नैनी झील में सैंकड़ों नाव दिन भर घुमाती फिराती रहती हैं। दूरी और समय के हिसाब से पैसे लगते हैं।

1.4 किमी लम्बी नैनी झील में सैंकड़ों नाव दिन भर घुमाती फिराती रहती हैं। दूरी और समय के हिसाब से पैसे लगते हैं।

7 thoughts on “नैनीताल – नैनी झील में बोटिंग

  1. Sachin tyagi

    नमस्कार सर। नैनीताल देखकर अच्छा लगा और आपके फोटो बहुत सुंदर है व उनके कैप्शन उनसे भी अच्छे… बढिया यात्रा

  2. दर्शनकौर धनोय

    यादगार पल ,नैनीझील में घूमते हुए ये सब आंखों के सामने थे ,जोरदार मंजर ..
    आपके वेरिफ़िकेशन ने परेशान कर दिया। इसको हटा दीजिये।

    1. Sushant K Singhal Post author

      बुआ ! ये वेरिफ़िकेशन सिर्फ एक बार की परेशानी होती है। एक बार की परेशानी तो दुनिया झेल ही लेती है ना? 🙂 इस वेरिफिकेशन के फ़ायदों को देखते हुए इसे हटाना उचित नहीं रहेगा।

      दर्शन ने आकर ब्लॉग पर दर्शन दिये इससे बढ़कर मेरे लिये सौभाग्य और क्या होगा? आती रहिये, पढ़ती रहिये और प्यारे प्यारे कमेंट भी देती चलिये ! भगवान आपको वर्ल्ड टूर करायेंगे।

  3. Pingback: इधर नैनी झील - उधर चांदनी चौक ! - India Travel Tales

  4. Pingback: यात्रा सहारनपुर से नैनीताल की - India Travel Tales

  5. Pingback: नैनीताल की एक अलसाई सुबह - India Travel Tales

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *